हरी सौंफ़ खाने के 12 औषधीय फायदे और नुकसान- advantage of fennel seeds in hindi

सौंफ़ के 12 औषधीय फायदे और नुकसान - advantage of fennel seeds in hindi
सौंफ (fennel)


सौंफ (fennel) के फायदे इन हिंदी यह एक सुगन्धित हरे रंग का औषधिये गुणों से युक्त पौधा होता है जो घरो में मसाले के रूप में प्रयुक्त होता है उसके अलावा यह पाचन शक्ति, मुँह के की बदबू हाटने के काम भी आता है। आईये जानते सौंफ खाने के फायदे और नुकसान-  

सौंफ क्या होता है - what is fennel seed in hindi

सौंफ का वैज्ञानिक नाम फेनिकुलम  वल्गारे  (foeniculam vulgare) है। इसके पौधे की लम्बाई 3 फिट तक होती है। इस औषधीय पौधे के सभी भाग को प्रयोग में लाया जा सकता है। इसे कई प्रकार से सेवन कर सकते है जैसे - मसाले की तरह, चाय के रूप में, पानी मे उबाल कर या सीधे फल को ही खा सकते है। सौंफ को कई व्यंजनों में डाला जाता है।

खाना खाने के थोड़ी देर बाद सौंफ को मिश्री के साथ खाने से खाना अच्छे से पचता है।


सौंफ़ के 12 रोचक गुण और फायदे - advantage of fennel seeds in hindi
सौंफ का फूल 

सौंफ के सेहत के लिए रोचक फायदे - Amazing benefits of fennel seeds in hindi

सौंंफ कई औषधीय गुण है जिनसे शरीर को बहुत से फायदे होते है जो इस प्रकार है -

सौंफ साइनस में राहत दें


साइनस वह अवस्था होती है जिसमें नाक के मार्ग के आसपास सूजन आ जाती है।  सौंफ की चाय इसमें आराम दे सकती है। 


सौंफ पीरियड्स के दर्द में राहत


सौंफ का तेल माहवारी के दर्द में आराम दे सकता है।  यह गर्भाशय के संकुचन के कारण जो ऐठन होती है उसके कारण दर्द का अनुभव होता है।  संकुचन  हार्मोन्स जिसे प्रोस्टाग्लैंडीन और ऑक्सीटोसिन कहते है सौंफ इन हार्मोन्स को रोकता है जिससे दर्द कम होता है। इसका एक फायदा यह भी है कि पीरियड्स को सही समय से आने में भूमिका रखता है इसलिए इसे खाने में उपयोग करें।


सौफ आँखों की ज्योति बढ़ाये 

फेनेल यानि सौंफ में विटामिन a की मात्रा पायी जाती है जिससे आँखों की रौशनी बढ़ती है और ग्लूकोमा की परेशानी कम होने में मदद मिल सकती है।


सौंफ पिम्पल एक्ने कम करें


अगर आप प्रतिदिन सौंफ का सेवन करते है तो आपको एक्ने की समस्या से निजात मिल सकती है क्योंकि इसमें सेलेनियम, जिंक, कैल्शियम पाए जाते है जो आपके हार्मोन्स को बैलेंस रखने में हेल्प करते है साथ ही यह आपके स्किन को ठंडक प्रदान करता है।


सौंफ का पानी वजन कम करने में सहायक है - saunf benefits for weight loss in hindi


सुबह खाली पेट सौंफ का पानी पीने से वजन कम हो सकता है। स्टडी के मुताबिक सौंफ में पाया जाना वाला एथेनॉल भूख को भी नियंत्रित करता है।  यह बिना कोई कैलोरी दिए पेट को भरा हुआ महसूस कराता है। इसमे फाइबर की मात्रा होती है जिससे आंतो की सफाई होती है और पाचन क्रिया फिट रहती है। 


सौफ स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए


सौंफ में एथेनॉल पाया जाता है जो शीघ्र माँ बनी स्त्रियों में दूध की मात्रा बढ़ाता है।


सौंफ मधुमेह टाइप 2 के लिए फायदेमंद


सौंफ  विटामिन c और बीटा कैरोटीन का स्रोत है। जो  डाइबिटीज़ टाइप 2 मरीजों में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रित करता है क्योंकि इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी कम होता है।   इस पर और अधिक शोध जारी है।  


सौंफ के पोषक तत्वों की मात्रा


100 ग्राम सौंफ दाने में -

          पोषक तत्व प्रति 100 ग्राम पर 
            energy
31   calorie
        Potassium
414 mg
            fiber
3.1 g
          Vitamin c
12 mg
          Calcium 
49 mg
            folate
27 mcg
        manganese
0.2 mg

(सिर्फ 50 कैलोरी तक देने वाले 17 आहार)

सौफ कई प्रकार के कैंसर से सुरक्षा 


सौंफ के दाने के सेवन पेट का कैंसर, त्वचा का कैंसर में गुणकारी है क्योंकि यह उन सेल्स को रोकता है जिससे कैंसर उत्पन्न होते है।  चिकित्सक सलाह आवश्यक है, सिर्फ इसे खाने पर निर्भर न रहे। 



सौफ पाचन दुरुस्त करें


सौंफ के दानों में कैरमिनिटिव और एंटीस्पास्मोडिक  का इफ़ेक्ट पाया जाता है जो गैस, आंतो की सूजन आदि में हितकारी है।  चिकित्सक सलाह अवश्य लें।


सौंफ खून साफ करें 


सौंफ में मौजूद तेल से खून प्यूरीफायर होता है जिससे कील - मुंहासे कम निकलते है। इसलिए सौंफ का पानी पीना अत्यंत लाभकारी है।


सौंफ गठिया के लिए


सौंफ में कुछ ऐसे तत्वों की मौजूदगी रहती है जिनके नियमित सेवन से गठिया  में आराम मिल सकता है।  

(ये है 20 high कैल्शियम युक्त आहार की लिस्ट)


सौंफ खाने के नुकसान - side effects of fennel in hindi 

सौफ नुकसान बताये गए है यह जरुरी नहीं की सभी को हो - 


प्रेग्नेंट औरते चिकित्सक परामर्श पर सौफ खाये 
जीरे से ऐलर्जी है तो सौफ खाने में सावधानी बरते। 
हो सकता है कि कुछ लोगों को उलटी जैसी समस्या होने लगे। 


सौंफ का परिचय देने की अधिक आवश्यकता नहीं है यह अपने आप ही लोगो के आकर्षण का केंद्र है। घरों, रेस्टॉरेन्ट आदि जगह खाने के बाद में दिया जाता है जिससे भोजन आसानी से पच सके और मुँह का स्वाद बढ़िया हो जाये। इसे कच्चा ही सीधे खाये तो यह और भी गुणकारी होता है।