shatavar ke top 13 fayde - शतावरी के टॉप 13 फायदे और नुकसान

 
shatavar ke top 13 fayde - शतावरी के टॉप 13 फायदे और नुकसान

शतावरी जिसे अंग्रेजी में  Asparagus racemosus कहते है एक औषधिये गुणों से युक्त पौधा है इसका प्रयोग पुराने समय से होता आ रहा है इस लेख में, हम शतावरी के उपयोग का तरीका, स्वास्थ्य लाभ और  साइड इफ़ेक्ट को देखगे, और क्या गर्भावस्था के दौरान इसे लेना सुरक्षित है।  

शतावरी क्या है - what is shatavar in hindi

शतावरी इन हिंदी एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है इसके जड़ का उपयोग दवाईयों के लिए किया जाता है।  महिलाओं के कई प्रॉब्लम में तो यह रामबाण है । इसमें ऐसे एंटीऑक्सीडेंट है जो बॉडी को कई बीमारियों, यूरिन इंफेक्शन, सूजन आदी में फायदेमंद है।


शतावर कैसे काम करता है 

शतावर इंसान के बॉडी को फ्री रेडिकल्स से बचाते है।इसे व्यक्ति लिक्विड, टेबलेट और पाउडर की तरह लेता  है।  

स्वास्थ्य के लिए शतावर के फायदे - shatavar (Asparagus) benefits in hindi

शतावर के अनगिनत फायदे है यहाँ इसके कुछ मुख्य फायदे बताये गए है -

शतावर pcod की दिक्कतों में राहत दे 


शतावरी के फायदे महिलाओं के लिये , Pcod के कारण प्रेग्नेंट होने और कई तरह की समस्याएं उतपन्न होती है। शतावर का प्रयोग से pcos और pcod में थोड़ी राहत मिल सकती है।

महिलाओं के पीरियड में लाभकारी

 
 शतावरी अनियमित माहवारी नियमित करने और दर्द को कम करने में मददगार है और यह सब इसमे उपस्थित स्टेरॉइडल सैपोनिन के कारण है। इस तत्व से  एस्ट्रोजेन कंट्रोल रहता है। जो पीरियड में अनियमितता के लिए जिम्मेदार हो सकता है।

शतावर स्तन के दूध में वृद्धि के लिए

शतावरी बूटी लेने से जिन महिलायों को दूध कम आता है उसमे वृद्धि हो सकती है। क्योंकि एक संतान के लिए मा का दूध अनिवार्य है।


प्रजनन में सहायता करे

जिन दंपति को संतान होने में समस्या है वे इसका सेवन डॉक्टर से पूछ कर सकते है इसके फायदेमंद तत्व प्रजनन को प्रेरित करते है।


मधुमेह में उपयोगी 


शतावर डायबिटीज में उपयोगी है । यह ग्लूकोज़ के लेेेवल को नियंत्रित रखती है।

शतावरी करें कोलेस्ट्रॉल में सुधार 


शतावरी रेसमोसस खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है जिससे हृदय भली भांति कार्य करे।

शतावरी झुर्रियों को कम करे 

शतावरी समय से पहले आयी रिंकल्स को गायब करती है जिससे त्वचा जवान लगती है। इसे घोल कर पिये। 

शतावर लाल, मुहांसे की त्वचा के लिए

1/2 चम्मच शतावरी पाउडर को 1/2 चम्मच हिबिस्कस लीफ पाउडर के साथ या चंदन मिलाएं।
पेस्ट बनाने के लिए इतना पानी डालें की गाढ़ा लेप बने जो त्वचा में रुक सके और जलन को दूर कर सके।

शतावरी दे किडनी स्टोन में राहत 

Shatavari गुर्दे की पथरी से राहत दिलाने में उपयोगी साबित हो सकता है। इसके अलावा, शतावरी रेसमोसस एंटी-यूरोलिथियासिस है जो पत्थरों को गलाने करने की प्रक्रिया को तेज करता है और नए पत्थरों के निर्माण की प्रक्रिया को रोकता है।

शतावरी अल्सर में असरदार 

शतावरी अपने एलिमेंट से गैस्ट्रिक अल्सर के इलाज में मदद कर सकती है।

शतावरी यूरिन संक्रमण के लिए  

शतावरी यूरिन इंफेक्शन में कारगर है। डॉक्टर के परामर्श पर शतावर का सेवन करने से लाभ होता है।


शतावर इम्यून सिस्टम के लििये 


शतावर के स्टेरायडल प्लांट कंपाउंड की कारण यह इम्मयून सिस्ट्ट्म को प्रेरित करता है। जिससे बीमारीयो को गति न मिलेे।

छुहारा खाली पेट खाने के फायदे और नुकसान

अश्वगंधा और शतावरी के फायदे  - ashwagandha and shatavari benefits in hindi


शतावरी  और अश्वगंधा दोनों को बराबर मात्रा में मिलाये और एक चम्मच दूध के साथ ले इससे मर्दाना ताकत, नींद की कमी, थकान दूर होती है।  इसके अलावा यह आकर्षक बॉडी बनाने में और वजन बढ़ने (weight gain) में भी मदद करता है।


शतावरी की कितनी खुराक लेना चाहिए 


शतावरी पाउडर, कैप्सूल, टैबलेट और तरल (liquid) रूपों में सेेेवन कर सकते है।  आप अपने डॉक्टर से इसे लेेंने के समबन्द्ध में सलाह ले सकते है। दिन में दो बार से अधिक न लेें।


शतावर के दुष्प्रभाव और जोखिम - risk and side effects of shatavari in hindi



जो महिलाएं गर्भवती हैं या स्तनपान कर रही हैं, उन्हें बिना डॉक्टर से पूछे इसका इसका उपयोग नहीं करना चाहिए 

यदि आपको शतावरी से एलर्जी है, तो इसे लेने से बचे पूरक से बचें। ऐसे में खुजली, सांस न ले पाना, रैशेज हो सकता है।


शतावरी ग्लूकोज़ यानी रक्त शर्करा को कम कर सकती है। लेकिन इसके लिए  डॉक्टर से पूछे।


यदि आपको कोई गंभीर बीमारी है तो इसका सेवन  से दूर रहे।

शतावरी का सीमित उपयोग करे तो यह वरदान है ।

 उपयोग से पहले डॉक्टरी सलाह आवशयक है