टाइफाइड को जड़ से खत्म करने का घरेलू इलाज - typhoid home remedies treartment in hindi

typhoid in hindi

टाइफाइड (typhoid in hindi) एक जीवाणु जनित संक्रमित बीमारी है।  इसका इलाज उपलब्ध है लेकिन शुरुवात में इसे घरेलू उपचार के जरिये भी ठीक करने का प्रयास किया जा सकता है जो कई लोगो में कारागार सिद्ध हुआ है यदि इससे भी आराम नहीं मिलता है है तो चिकित्सक के पास जाने में देर न करे।  इस आर्टिकल में जानिए टाइफाइड को जड़ से खत्म करने का घरेलू इलाज -

टाइफाइड क्या होता है - what is typhoid in hindi

टाइफाइड में तेज बुखार आता है जो साल्मोनिला टायफी बैक्टीरिया के संक्रमण के वजह से होता है।  इसे मियादी बुखार भी कहते है जो एक इंसान से दुसरे इंसान में पहुँचता है। यह बैक्टीरिया इंसान के आंत और खून के प्रवाह में रहता है।  अधिकांशतः यह अशुद्धता  व अस्वच्छता के कारण होता है।  जानवरों के वजह से यह बीमारी नहीं फैलती है। 

जब यह बैक्टीरिया खून में होता है तो यह प्रतिरोधक छमता को कम कर देता है जिससे शरीर के अन्य हिस्से भी प्रभावित होने लगते है और व्यक्ति कमजोरी आने लगती है।  


टाइफाइड का कारण - reasons of typhoid in hindi


दूषित पानी पीना 


दूषित भोजन कर लेना 

टाइफाइड संक्रमित व्यक्ति के मल के संपर्क में आने से। 

साफ-सफाई में कमी होना 

पेट में दर्द 


टाइफाइड के लक्षण - symtoms of typhoid in hindi


तेज बुखार 


शरीर में लाल चकत्ते (रैशेज)


कमजोरी 


सिर दर्द 


समस्या गंभीर होने पर डायरिया, उल्टी हो सकती है।

भूख न लगना 

उल्टी आना 

मांसपेशियों में दर्द 

सायटिका दर्द का घरेलू उपचार - sciatica pain treatment in hindi


 


टाइफाइड बुखार का घरेलू इलाज -  typhoid home remedies treatment  in hindi

टाइफाइड दवाओं के द्वारा ठीक हो जाता है।  घरेलू उपचारों के जरिये भी इसे ठीक किया जा सकता है -

तुलसी टाइफाइड में फायदेमंद 

तुलसी की चाय टाइफाइड के बुखार में राहत देता है।  शुरुवाती बुखार में तुलसी की चाय या तुलसी को शहद के साथ खाना लाभकारी है। 


तरल पदार्थ टाइफाइड में 

रोगी को अधिक से अधिक से तरल पदार्थ लेना चाहिए।  जिससे शरीर डीहाइड्रेट न हो।  सूप. ताजे फल का रस, ग्रीन टी, लिया जा सकता है।  इससे इम्युनिटी बढ़ेगी और बीमारी से लड़ने की ताकत मिलेगी और खराब टॉक्सिन्स बाहर निकलते है। 


छांछ 

छांछ टाइफाइडम बवासीर जैसे रोगो में पीना लाभदायक है।  यह शरीर को निर्जिलीकरण से बचाता है। 


टाइफाइड में लहसुन 

home remedy for typhoid in hindi में लहसुन का सेवन करना चाहिए इसमें एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती है।  जो टाइफाइड के बुखार में खाने से बुखार का लेवल कम हो जाता है। लहसुन को भून कर खा सकते है। 

 

केला 

टायफी जीवाणु अक्सर आंतो में होता है।  केला में फाइबर होता है जो आंतो की सफाई का कार्य करता है। इससे डायरिया, लूज़मोशन में राहत मिलती है। 


क्या टाइफाइड से जान जा सकती है ?


यदि रोगी का टाइफाइड ज्वर  5 से 7 दिन में ठीक नहीं होता है तो समस्या गंभीर होने लगती है। रोगी को अन्य बीमारी भी होने का खतरा रहता है जैसे - निमोनिया, ब्रोंकाइटिस आदि।   इलाज न मिलने पर जान भी जा सकती है। 


आरम्भ में एंटीबायोटिक और घरेलू उपचार से इसका इलाज संभव  है।  


टाइफाइड की वैक्सीन 

टाइफाइड की वैक्सीन डॉक्टर के सलाह पर ही लगवाए।  वैक्सीन मुँह से और इंजेक्शन द्वारा दिया जाता है। 


टाइफाइड वैक्सीन को  हर दूसरे साल लेने की जरुरत हो सकती है। 


 निष्कर्ष 

यदि typhoid treatment at home in hindi से ठीक नहीं हो रहा है तो डॉक्टर को दिखाने में देर न करें। 


FAQs

Q - टाइफाइड का बुखार कितने दिन तक रहता है ?
A - टाइफाइड का बुखार लगभग 4 हफ्ते तक रहता है। 


Q - टाइफाइड कैसे होता है ?
A - टाइफाइड दूषित खाने, पीने और अस्वच्छता के कारण होता है। 


Q - टाइफाइड ज्वर किसे अधिक होता है ?
A - टाइफाइड ज्वर किसी को  भी हो सकता है लेकिन युवाओं और बच्चों को अधिक होता है। 

Q - टाइफाइड का वाहक कौन है ?
A - टाइफाइड का वाहक साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया है। 


Q - क्या टाइफाइड में साँस लेने में समस्या हो सकती है ?
A - हा स्थिति गंभीर होने पर साँस लेने में समस्या हो सकती है। 


Q - क्या टाइफाइड में लहसुन खा सकते है ?
A - हा टाइफाइड के ज्वर में लहसुन का सेवन कर सकते है। 


Q - टाइफाइड में केला, अंगूर संतरा खा सकते है ?
A - हाँ टाइफाइड के  बुखार में केला, अंगूर संतरा धोके खा सकते है। 


Q - क्या टाइफाइड में मुँह का स्वाद चला जाता है ?
A - हा अक्सर रोगी को बुखार होने में मुँह का स्वाद बेकार हो जाता है।