सेहत के लिए रसभरी के 8 फायदे और नुकसान - cape gooseberry benefits and side effect in hindi

सेहत के लिए रसभरी के 8 फायदे और नुकसान - cape gooseberry benefits and side effect in hindi


 rasbhari ke fayde aur nuksan रसभरी एक छोटे टमाटर जैसे दिखने वाला फल की तरह ही है जिसे आमतौर पर लोग पसंद करते है ।  रसभरी दक्षिड़ अमरीका और यूरोप  देशो में खास उत्पत्र  होता है।  रसभरी में बहुत से खनिज और पौष्टिक तत्व होते है जैस कार्ब्स,फाइबर,  राइबोफ्लेविन,नियासिनप्रोटीन, वसा,विटामिन सी, थियामिन,, विटामिन ए, लोहा, फास्फोरस इत्यादि विटमिन और खनिज है।

रसभरी फल क्या होता है - what is rasbhari/cape gooseberry in hindi

इसका रंग सुनहरे , नारंगी रंग के फल की तरह होता हैं जो कि टोमैटिलो परिवार के साथ निकटता से संबंधित हैं। यह चेरी टमाटर से थोड़ा छोटा और खट्टा-मीठा होता है। इसे कई लोग नाश्ते में  खा लेते है।  इसे पोहा बेरी, पेरूवियन ग्रैचेरी, गोल्डनबेरी, भूसी चेरी, इंका बेरी और केप गोसेबेरी के नाम से भी जाना जाता है।  आइये जानते हैं  rasbhari benefits and side effects in hindi

 

रसभरी के फायदे - benefits of golden berries or cape gooseberry(rasbhari) in hindi


कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण करने में सहायक – 


अच्छे कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने के लिए रसभरी खाना फायदेमंद  है। हमारे शरीर में दो कोलेस्ट्रॉल होते है। एक अच्छा कोलेस्ट्रॉल और दूसरा बुरा कोलेस्ट्रॉल कहते है। बुरा कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर हाई बीपी और अटैक जैसी परेशनी होती है। वही अच्छा कोलेस्ट्रॉल द्वारा हृदय स्वस्थ रहता है। 

इम्युनिटी मजबूत करे रसभरी  


यदि पौष्टिक तत्व युक्त फल या आहार नहीं ले ते है तो शरीर में कमजोरी आ जाती है। जिस कारण कई बीमारी होने का जोखिम बना रहता है। इम्युनिटी के लिए विटामिन सी बहुत आवशयक होता है। रसभरी(rasbhari benefits) विटामिन सी और अन्य तत्वों से युक्त फल है जो शरीर की इम्युनिटी को मजबूत करता है। इम्युनिटी मजबूत होने से वायरल, सर्दी -जुखाम जैसी बीमारी जल्दी नहीं होती है।

वजन को कम करने में 


 रसभरी में वसा की बहुत कम मात्रा होती है। यह शरीर में वसा की मात्रा को बढ़ने नहीं देता है। इससे शरीर का वजन कम हो जाता है। जो लोग अपना वजन कम करने के लिए सोच रहे है उनको रसभरी का सेवन करना चाहिए।


रसभरी कैंसर से बचाव करने में मददगार  


कैंसर जानलेवा बीमारी होती है।  रसभरी पॉलीफिनॉल केरिटिनॉयड्स पाया जाता हैं। साथ ही में कैंसर विरोधी एंटीऑक्सिडेंट गुण होते है जो कैंसरकारक ट्यूमर के जोखिमों को रोकने में सहायता करता है। 


रसभरी डायबिटीज के लिए – 


रसभरी में उपस्थित एंटीऑक्सीडेंट डायबिटीज टाइप 2 के लिए एक अच्छा उपचार माना जाता है। डायबिटीज एक  बार हो जाने खत्म नहीं होती है लेकिन इसे कण्ट्रोल किया जाता है। यह शरीर मे रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए रसभरी बेरी बहुत फायदेमंद होती है। 

आँखों के लिए फायदेमंद है रसभरी 


रसभरी में विटामिन ए भी पाया जाता हैं जो हमारे शरीर के साथ-साथ आँखों को भी ठीक रखता हैं। 



गठिया का उपचार करे – 


एंटीऑक्सीडेंट भरपूर रसभरी गठिया के दर्द और सूजन को कम करने में उपयोगी है।  यह मांसपेशियो के दर्द लिए का दर्द के लिए बेहतरीन है साथ ही बवासीर की समस्या में भी लाभदायक है। 


हाई ब्लड प्रेशर कम करने के लिए रसभरी  – 


रसभरी में कुछ ऐसे भी घुलनशील फाइबर होते है जो पाचन के साथ-साथ बीपी की समस्या में सहायता करती है।


रसभरी के नुकसान क्या है ? - What are the Side-Effects of Golden berries in Hindi


    रसभरी के बहुत फायदे  है, लेकिन अधिक सेवन से कुछ नुकसान भी होते है।

    पके ररसभरी ही सेवन करें, कच्चा के ना करे क्योकि यह सेहत के लिए हानिकारक होता है। 

    यदि बेरीज खाने से ऐलर्जी होती हैं तो रसभरी खाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले।  .

    जंगली रसभरी न खाये। इससे एलर्जी हो सकती है। 

    प्रेग्नेंट और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को रसभरी का सेवन करने से पहले डॉक्टर का सलाह लें। 

    निष्कर्ष 

    यहाँ रसभरी के सामान्य फायदे और नुकसान बताये गए है।  सेवन से पहले चिकित्सक परामर्श आवशयक है।