evion 400 कैप्सूल के उपयोग, फायदे महिलाओं एवं पुरुषों के लिए

evion 400 कैप्सूल(vitamin e) के फायदे महिलाओं एवं पुरुषों के लिए


evion 400 benefits in hindi  एवियन 400 विटामिन ई कैप्सूल  का नाम है।  यह घुलनशील विटामिन होता है यह मूंगफली, बादाम, मूंगफली,  नारियल तेल, अखरोट, सूरजमुखी का तेल, आदि में प्राकृतिक रूप में पाया जाता हैं। एक कैप्सूल की कीमत 4 से 5 रूपए तक होती है। यह सभी स्त्री एवं पुरुषो के लिए सामान रूप से उपयोगी है।  

विटामिन ई चेहरे का ग्लो बढ़ाने, जवां बनाये रखने, झुर्रियां कम करने व डार्क सर्कल्स दूर करने में बहुत सहायक होती हैं।  इसमें विशेष एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते है जो सेल्स को फ्री रेडिकल्स से बचाते है।  विटामिन ई स्किन, बाल और पुरे सेहत के लिए फ़ायदेमदं होती है। evion 400 capsule benefits for male and female in hindi



एवियन 400 के फायदे सभी के लिए - evion 400 capsule benefits in hindi

त्वचा के लिए 

यदि चेहरे पर ड्राईनेस आती है तो एवियन 400 कैप्सूल के जेल में एलोवेरा जेल मिलककर स्मूथ पेस्ट बनाये फिर इसे चेहरे पर लगा कर मसाज करे।  रात को सोने से पहले लगाए।  सुबह धो लें। प्रतिदिन या हफ्ते में तीन दिन ऐसा करे।  इसमें अरंडी का तेल भी मिला सकते है।  

महिलाओं एवं पुरुषों दोनों की स्किन जवान और झुर्रियां भी जाने लगेंगी।  त्वचा को मॉइस्टराइज़ करता है।

पुरुषों की फर्टिलिटी के लिए 

विटामिन ई के सेवन सी पुरुषों की प्रजनन छमता से सबंधित समस्याओं में कमी होती है।  लेकिन कोई भी सप्लीमेंट लेने से पहले डॉक्टर से अवश्य पूछे। 

विटामिन ई कैप्सूल फॉर स्किन वाइटनिंग 

यदि चेहरा टैन हो गया है तो विटामिन ई कैप्सूल में शहद, गुलाब जल, एलोवेरा मिलाकर लगाए।  इससे चेहरे की रंगत में सुधार होगा जो किसी भी वजह से डल हो गयी थी। 


   

आँखों के लिए 

यदि आँखों में डार्क सर्किल किसी बीमारी और हेल्थ इशू के वजह से  होकर आपकी व्यस्त लाइफस्टाइल के कारण हुआ है जैसे आराम न कर पाना, पूरी नींद न लेना, फ़ोन अधिक चलाने आदि  से तो रात को सोते समय विटामिन ई कैप्सूल का जेल निकाल कर अपने अंडर आई एरिया में लगाए और हल्की मसाज करें ।  लगाने से पहले फेस वाश जरूर कर लें।  प्रतिदिन लगाए और 15 दिन में ही असर दिखने लगेगा। 

बालों के लिए 

बालों के लिए विटामिन ई कैप्सूल बालों में बहुत असरदार होता है यह बालों की ग्रोथ एवं उन्हें मुलायम बनाता है।  इसके के लिए विटामिन ई कैप्सूल के तेल को पाने रोज लगाने वाले तेल में मिला कर लगाए। 

हार्म फुल केमिकल बनने से रोके 

इस कैप्सूल में पाए जाना वाला तेल शरीर में हार्मफुल केमिकल्स को बनने से रोकता है।  जिससे बॉडी अच्छे से कार्य करता है। 

नाख़ून बढ़ाये 

जिनके नाख़ून नहीं बढ़ते।  इसके तेल को नाख़ून पर मसाज करे।  इसके सेवन से भी नाख़ून की ग्रोथ होने लगती है। 

एवियन 400 उपयोग का तरीका - uses of evion 400 capsuls

evion 400 कैप्सूल को खाना खाने के बाद पानी के साथ लिया जाता है लेकिन इसे चबाया नहीं जाता है बल्कि सीधे निगला जाता है। 

दूध के इसके तेल को मिलाकर पिया जाता है। 

चेहरे और बालों पर लगाने के लिए कैप्सूल से तेल निकाल कर लगाया जाता है। 



 एवियन 400 कैप्सूल के नुकसान - side effects of evion 400 capsuls in hindi

  • दवा के कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हैं जैसे डायरिया, पेट ऐंठना, मतली, सिरदर्द, ढीले मल, और चक्कर आना। इसके अलावा कुछ मामूली प्रभाव धुंधली दृष्टि, कमजोरी, चकत्ते, खुजली और पेट में दर्द।
  • विटामिन के की कमी वाले विटामिन ई अधिक न लें। 
  • गर्भावस्था, मधुमेह पीड़ित, किडनी रोगी, स्तनपान करने वाली महिला डॉक्टर से संपर्क करके ही सेवन करें। 
  • जो खून पतला करने की दवा लेते है वे कैप्सूल न खाये। 



निष्कर्ष -
यहाँ जो एविऑन 400 विटामिन ई कैप्सूल के जो भी फायदे महिलाओं एवं पुरुषों के लिए बताये गए है वे सामान्य है।  सेवन से पहले चिकित्सक परामर्श आवशयक है। 


FAQ 




Q -विटामिन ई के प्राकतिक स्रोत क्या है ? vitamin e kisme paya jata haiANS -1 विटामिन E पूर्णतः पेड़-पौधों, शाकाहारी स्रोत से मिल जाते हैं। पत्तेदार सब्जियां जैसे ब्रोकोली ,पालकसरसों, शकरकंद,, लाल या हरे शिमला मिर्च, एस्पेरेगस, शतावर आदि।                     2) vitamin e dry fruits - अलसी के बीज , सूर्यमुखी के बीज, अखरोट, बादाम, हेज़लनट, काजू, मूंगफली, (Peanut butter), खड़े अनाज, ऑरेगैनो (Oregano), गेंहू के अंकुर                                   3) vitamin e fruitsखुबानी, आम, पपीता, , शकरकंद, टमाटर, एवोकाडोकीवी फ्रूट, फ्रूट जूस। 
Q - विटामिन ई  कमी इ कौन से रोग हो सकते है ?

ANS- प्रजनन क्षमता (Fertility) में कमी
खून की कमी (एनीमिया)
आँखों के रेटिना सम्बन्धित रोग
हेमोलिटिक एनीमिया
रेटिनोपैथी
मसल वीकनेस
न्यूरोलॉजिकल बीमारियाँ
पार्किन्सन डिजीज
बच्चों का सिस्टिक फ़ायब्रोसिस
अल्झाइमर
डेमेंशिया आदि