गुर्दे की पथरी: लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार

गुर्दे की पथरी: लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार
किडनी स्टोन 

 गुर्दे की पथरी का घरेलू इलाज  किडनी और  मूत्रवाहिनी में एक समय में एक से अधिक स्टोन हो सकते है जब आपको अपनी गुर्दे की पथरी का पता चलता है तो आप सोचते है कि सर्जरी का सहारा लेना पड़ेगा या नही। यदि गुर्दे की पथरी 10 मिमी से छोटी है तो वह सिर्फ दवाओं से ठीक हो सकती है और हो सकता है कि स्वयं ही पेसाब के रास्ते निकल जाए। इससे आप सर्जरी से बच सकते है।  

 क्या है गुर्दे की पथरी - what is kidney stone in hindi

 गुर्दे की पथरी को नेफ्रोथयासिस भी कहते है पथरी जो कि छोटे-छोटे ठोस क्रिस्टल से बना होता है  यदि आपको कभी अपने पीठ या पेट के एक तरफ दर्द होता है तो आपको पथरी की समस्या हो सकती है।     मूत्र मार्ग में  विशेष खनिज क्रिस्टल मौजूद होते है ये ही कुछ महीनों में पत्थर का रूप ले सकते है।  कभी-कभी यह पत्थर गुर्दे से नीचे पेशाब नली में आ जाती है जिससे मूत्र में रुकावट हो जाती है और वही संक्रमण का कारण बनता है।   

 एक बार पथरी होने पर, वह दोबारा भी हो सकती है। 

पथरी के प्रकार - types of kidney stone in hindi

पथरी के निम्न प्रकार होते है -

 कैल्शियम की पथरी 

कैल्शियम की पथरी सबसे आम पथरी है जो पुरुषों में 30 से 40 की उम्र म बनती है।  यह अन्य तत्वों जैसे - ऑक्सालेट, कॉर्बोनेट और फास्फेट के साथ मिलकर स्टोन का निर्माण करता है 


सिस्टीन पथरी 

यह उन लोगो में बनती है जिन्हे सिस्टिनूरिया होता है। जिन परिवार के सदस्यों में सिस्टि नामक एमिनो एसिड बनता है। 


स्टूवाइट पथरी 

  जब महिलाओं या पुरुषों के मूत्र मार्ग में संक्रमण होता है तब उन्हें इस प्रकार क पथरी हो सकती है।  यह पथरी बड़ी हो सकती है और गुर्दा, मूत्रवाहिनी के मार्ग को बाधित करती है। 


यूरिक एसिड की पथरी 

यह पथरी पुरुषों में अधिक होती है जहां गाउट का इतिहास होता है।  


गुर्दे की पथरी का पता कब चलता है 

जब पथरी गुर्दे से नीचे मूत्रवाहिनी में आती है तब स्टोन का पता चलता है।  मूत्राशय से जब मूत्र नीचे आता है तब पथरी गुर्दे से उसे नीचे आने से रोकती है इससे तेज दर्द होता है जो थोड़ी देर बाद चला भी जाता है।  यह सबसे सामान्य लक्षण है। 

लेकिन कुछ ;लक्षण भी है जो लोगो में देखे जाते है जैसे - जी मिचलाना, मूत्र से खून आना, बुखार,  उल्टी और  ठंड लग सकती है। पुरुषों के अंडकोष में और महिलाओं के योनि में दर्द हो सकता है।   


गुर्दे की पथरी किस कारण होती है - causes of kidney stone in hindi


संभावित कारणों में बहुत कम पानी पीना, व्यायाम (बहुत कम या बहुत कम), मोटापा, वजन घटाने की सर्जरी, या बहुत अधिक नमक या चीनी के साथ भोजन करना शामिल है। कुछ लोगों में संक्रमण और पारिवारिक इतिहास महत्वपूर्ण हो सकता है। बहुत अधिक फ्रुक्टोज खाने से गुर्दे की पथरी विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। फ्रुक्टोज टेबल चीनी और उच्च फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप में पाया जा सकता है। पथरी निकल गयी है या नहीं इसका पता अल्ट्रा साउंड से लगाया जाता है।  


गुर्दे की पथरी की रोकथाम कैसे करें - prevention of kidney stone in hindi


कुछ लोगो पथरी के लिए अधिक संवेदनशील होते है। ऐसे पदार्थ सिमित मात्रा में खाये जिसमे ऑक्जेलेट और फास्फेट पाया जाता है जैसे - पालक, चुकंदर।  

उच्च मात्रा में सोडियम न ले और शरीर के जरुरत के अनुसार ही कैल्शियम लें, क्योंकि कैल्शियम की अधिकता से भी पथरी होने की संभावना रहती है। 

अधिक प्रोटीन न खाये जैसे - चिकन, अंडा, मछली। 

कैल्शियम भी जरुरत के अनुसार लें। 

अधिक से अधिक पानी पिए। 

स्वीट पोटैटो, पैकेज्ड फ़ूड, सी-फ़ूड, चॉक्लेट, विटामिन सी सभी पदार्थ शरीर की छमता के अनुसार। 

कुछ विशेष दवाएं भी स्टोन को बनाती है। 

 

गुर्दे की पथरी का इलाज - treatment of kidney stone in hindi


पथरी का इलाज पथरी के आकार और प्रकार पर निर्भर करती है।  यदि गुर्दे की पथरी 5 मिमी की है तो आपको दिन में 7 से 8 ग्लास पानी पने की सलाह दी जाती है जिससे पथरी स्वयं ही निकल जाये।  स्टोन निकलने के दौरान दर्द होता है इसलिए डॉक्टर दर्द निवारक दवाएं लिख सकता है और साथ ही पत्थर के आकार को कम करने की दवा भी दे सकता है। 


यदि पथरी बड़ी है और पेसाब के रास्ते नही निकल सकती है तो डॉक्टर सर्जरी के लिए कहते है। इसे परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी कहते है जिसमे पीठ में चीरा लगाया जाता है। 

 चिकित्सक लिथोट्रिप्सी यूरेरोस्कोपी कर सकते है जिसमे मूत्रवाहिनी में पथरी अगर फंस गयी है तो उसे निकाला जाता है। प्रक्रिया में कोई चीरा नही लगता है और जोखिम भी कम है । यह तरीके की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि पत्थरी का आकार क्या है।


शॉक वेव लिथोट्रिप्सी (एसडब्ल्यूएल) अमेरिका में गुर्दे की पथरी के लिए सबसे आम उपचार है। शरीर के बाहर से आने वाली शॉक या ध्वनि तरंगों को से  गुर्दे की पथरी को छोटे टुकड़ों में तोड़ दिया जाता है। इस दौरान पीड़ित को बेहोश करा जाता है। इस प्रकिया को कभी-कभी ESWL कहा जाता है: एक्सट्रॉकोर्पोरियल शॉक वेव लिथोट्रिप्सी। 


गुर्दे की पथरी का घरेलू उपचार - home remedies treatment of kidney stone in hindi

यदि आपकी गुर्दे या मूत्रवाहिनी की पथरी 10 मिमी से छोटी है तो आप इन घरेलू उपचार का सहारा ले सकते है -

1 . दो चम्मच सेब के सिरके को आधा ग्लास पानी में मिलाकर पिए।  एप्पल साइडर विनेगर पथरी को गलाने में मदद करता है। 

2. एक भगोने में 4 ग्लास पानी डालें इसमें एक गड्डी धनिया काट कर डाले और खूब अच्छे से उबले।  ठंडा होने पर फ्रीज़ में रख दें।  

3. इसे और रोज पिए, फर्क दिखेगा। गुर्दे की पथरी होने पर प्रतिदिन एक अनार खाये या इसका जूस पिए।  अनार में एस्ट्रिजेंट के गुण पाए जाते है जो पथरी के इलाज के लिए मदद करता है।  

4. किडनी में स्टोन है तो पत्थरचट्टा के पत्ते को पीस कर चीनी या मिश्री के साथ खाये।  यह  पथरी के लिए बहुत फायदेमंद है।   

5. पथरी के इलाज में सबसे अधिक कारागार है पानी पीना कोई भी घरेलू उपचार करें लेकिन पानी अवशय पीना है। ताकि किडनी अधिक मात्रा में तरल छाने जिससे शरीर से खराब टोक्सिन बाहर निकल सके।   

    

यह सामान्य जानकारी है एक बार अपने डॉक्टर से परामर्श अवशय करें। स्थति गंभीर है तो सिर्फ घरेलू उपचार के भरोसे न रहे बल्कि इलाज कराये।