आईवीएफ और टेस्ट ट्यूब बेबी में अंतर- What is the difference between ivf or test tube baby in hindi


आईवीएफ और टेस्ट ट्यूब बेबी में अंतर


आई वी एफ और टेस्ट ट्यूब बेबी में अंतर 
( ivf aur test tube baby mein antar in hindi)

आईवीएफ और टेस्ट ट्यूब बेबी में कोई अंतर नहीं है। टेस्ट ट्यूब बेबी शब्द एक गैर-चिकित्सा शब्द है जिसका इस्तेमाल दशकों पहले आईवीएफ या इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन के संदर्भ में किया गया था। टेस्ट ट्यूब बेबी शब्द सामान्य विचार के कारण अस्तित्व में आया क्योंकि महिला के  भ्रूण का निर्माण फैलोपियन ट्यूब के बजाय एक परखनली में होता है। इस प्रक्रिया में अंडे को शुक्राणुओ द्वारा प्रयोगशाला(lab) में निषेचित किये जाते है।

आईवीएफ की प्रक्रिया क्या है? - ivf proccess kya hai in hindi ?


आईवीएफ प्रक्रिया के माध्यम से गठित एक भ्रूण को मां के गर्भ में स्थानांतरित किया जाता है और गर्भावस्था को सामान्य देखभाल के साथ जारी रखा जाता है। बांझपन की बढ़ती घटनाओं या स्वाभाविक रूप से गर्भ धारण करने में असमर्थता के कारण आज आईवीएफ उपचार भारतीयों के बीच अधिक लोकप्रिय हो रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बांझपन को एक बीमारी के रूप में घोषित किया है जिसे चिकित्सा हस्तक्षेप की आवश्यकता है।



टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया मुख्य रूप से इनके के लिए होती है


  • शुक्राणुओ  संख्या व गुणवत्ता में कमी (low quality number of sperm)
  • अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूब (Blocked Fallopian Tubes)
  • किराए की कोख (Surrogacy)
  • किसी भी अन्य बांझपन का मामला (Any other infertility case)

शुक्राणुओ  संख्या व गुणवत्ता में कमी (low quality number of sperm)

सफलतापूर्वक गर्भ धारण करने के लिए कई जोड़ों की अक्षमता में पुरुष बांझपन का प्रमुख योगदान है। आपका डॉक्टर अपने स्पर्म काउंट, स्पर्म क्वालिटी, स्पर्म वॉल्यूम के साथ-साथ मोटिवेशन (मूवमेंट) से संबंधित विवरण प्रकट करने के लिए पुरुष पार्टनर को वीर्य विश्लेषण परीक्षण से गुजरने के लिए कह सकता है।
जाने -( Immunity power increase food in hindi : 6 चीज़ो को खाकर बढ़ाये प्रतिरोधक छमता)

अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूब (Blocked Fallopian Tubes)

यह सबसे सामान्य कारणों में से एक है, जिससे आईवीएफ प्रक्रिया की आवश्यकता होती है। इन मामलों में, फैलोपियन ट्यूब में क्षति को संचालित करना और ठीक करना मुश्किल है। तो, आईवीएफ रोगियों को सफलतापूर्वक गर्भ धारण करने के लिए सलाह दी जाती है।

अस्पष्टीकृत बांझपन(Unexplained infertility)

 अस्पष्टीकृत बांझपन का मतलब सामान्य कारणों के मूल्यांकन के बावजूद बांझपन का कोई कारण नहीं पाया गया है।

किराए की कोख (Surrogacy)

सेरोगेसी में इस प्रकार की क्रिया की जाती है। इसमें माता -पिता के शुक्राणुओं और अंडाणुओं को परखनली में निषेचित कराके सेरोगेट मदर के गर्भाशय में ट्रांसफर किया जाता है इसे जनसटेंसनल सेरोगेसी कहते है। 

किसी भी अन्य बांझपन का मामला (Any other infertility case)

आईवीएफ प्रक्रिया की सिफारिश के अन्य कारणों में डिम्बग्रंथि की कार्यक्षमता, पॉलीसिस्टिक डिम्बग्रंथि सिंड्रोम (पीसीओएस) कम हो जाती है और साथ ही कम अंडे की मात्रा और उम्र को आगे बढ़ाने से संबंधित समस्याएं, जेनेटिक कारण हो सकते हैं।